copyright. Powered by Blogger.

खामोशी रात की

>> Wednesday, August 27, 2008

रात की खामोशी में
ये कैसी सरगोशी है?
मन ढूंढ रहा है कुछ
तन में भी बेहोशी है।
तन्हाई का आलम है
पर तनहा नही रहती
ख़ुद से कुछ चाहूँ कहना
पर बात नही मिलती
एक ख्वाब सा आंखों में
साया बन के उतरता है
उस साए को छूने की भी
इजाज़त नही होती
घने अंधेरे में यूँ
चाँद का चमकना
तारों के बीच फिर
स्याह रात नही होती
ज़िन्दगी में यूँ चमक जब
आ जाती है अचानक
फिर कुछ पाने की
मन में चाह नही होती .


13 comments:

"Nira" 8/27/2008 6:20 PM  

एक ख्वाब सा आंखों में
साया बन के उतरता है
उस साए को छूने की भी
इजाज़त नही होती
bahut ghahrayi ki baatain raatain samit.ti hain
bahut acha likha hai

Dr. RAMJI GIRI 8/27/2008 7:12 PM  

"एक ख्वाब सा आंखों में
साया बन के उतरता है
उस साए को छूने की भी
इजाज़त नही होती "

SHABDON ME UTAR DI HAI AAPNE BAHUT HI ROOMANI RAHASYA... Too Good...

masoomshayer 8/27/2008 7:20 PM  

ज़िन्दगी में यूँ चमक जब
आ जाती है अचानक
फिर कुछ पाने की
मन में चाह नही होती .

mere liye bahut kahs pasand kee kavita hai ye bahut khoob

Anil

रश्मि प्रभा 8/27/2008 7:57 PM  

ज़िन्दगी में यूँ चमक जब
आ जाती है अचानक
फिर कुछ पाने की
मन में चाह नही होती ...........
bahut sahi,aur kaafi gahri,
jab shabd gunj ban jaye,to sarahna se upar ho jate hain

Aawara 8/27/2008 8:00 PM  

Sangeeta ji .. Ek behtar rachna ... Aur utnii he behtar prastutii ...

Jiss tarah .. kalam chalate waqt rachnakaar ke mann me uljhan thaa .. waise he isey samajhne mein bhee thodi uljhan hui ... :)

Per .. beshak.. aapke vyaktitva ke anuroop.. ek umdaa rachna ..

Dheron prashanshayein...

Aapka

Yash..

roohshine 8/27/2008 10:25 PM  

ज़िन्दगी में यूँ चमक जब
आ जाती है अचानक
फिर कुछ पाने की
मन में चाह नही होती .


bahut sunder .. aur ye chamak kisi bahari object se nahin atai.. apna hi man chamak ko mehsoos karne lagta hai...
mudita

Taanya 9/09/2008 1:59 PM  

रात की खामोशी में
ये कैसी सरगोशी है?
मन ढूंढ रहा है कुछ
तन में भी बेहोशी है।
--aaaah ek tanha raat ka chitran bahut khoob..
तन्हाई का आलम है
पर तनहा नही रहती
ख़ुद से कुछ चाहूँ कहना
पर बात नही मिलती
---hmmm ek dil ki kashmokash,,ek uha-poh..jyu raasta nahi mil raha vicharo ko khul kar saamne aane ka..!!
एक ख्वाब सा आंखों में
साया बन के उतरता है
उस साए को छूने की भी
इजाज़त नही होती
--hmmm yaha us tanha insaan ki chaahat, ek armaan,,,ek khaab ban k hridye patal se hota hua..mastishk ki yaado se guzerta hua..aankho main aa ker basta ja raha hai..jise vo tanha man yathharth roop me chhuna chaahta hai..per vo to khaab hai..so izazet kaha?? bahut sunder aur sanjeev chitran..bhut gehrayi se dil ko chhu gaye ye ehsaas..!!
घने अंधेरे में यूँ
चाँद का चमकना
तारों के बीच फिर
स्याह रात नही होती
ज़िन्दगी में यूँ चमक जब
आ जाती है अचानक
फिर कुछ पाने की
मन में चाह नही होती .
- yaha jaise tript ho gaye ho khud-b-khud..us saaye ko jaise man me utar kar jaise sab sukh paa liye ho..ab syah raat ka sawal nahi hai man-mastishk me..aur such hai tript.Ta, santushti pa lene k baad kuch chaah nahi rehti..

Sangeeta ji mujhe aapki ye rachna bahut acchhi lagi..hats off..aage bhi intzaar rahega..thanks for sharing..

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) 12/12/2011 11:45 AM  

कल 13/12/2011को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
धन्यवाद!

Rakesh Kumar 12/13/2011 7:00 AM  

मन मग्न हो गया है आपकी सुन्दर प्रस्तुति पढकर.
आपका आभार.
यशवंत जी का आभार जिनकी हलचल से यहाँ चला आया हूँ.

Navin C. Chaturvedi 12/13/2011 10:17 AM  

2008 की पोस्ट, बाप रे बाप, ढूँढने वाले की तारीफ करनी होगी। दीदी बहुत सुंदर कविता है ये।

ASHA BISHT 12/13/2011 1:10 PM  

bahut sundar.kavy..

S.M.HABIB (Sanjay Mishra 'Habib') 12/13/2011 7:33 PM  

ज़िन्दगी में यूँ चमक जब
आ जाती है अचानक
फिर कुछ पाने की
मन में चाह नही होती ...

सुन्दर रचना दी....
सादर...

Post a Comment

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है...

आपकी टिप्पणियां नयी उर्जा प्रदान करती हैं...

आभार ...

हमारी वाणी

www.hamarivani.com

About This Blog

आगंतुक


ip address

  © Blogger template Snowy Winter by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP