copyright. Powered by Blogger.

एक कोशिश

>> Friday, August 29, 2008

रात की स्याही जब
चारों ओर फैलती है
गुनाहों के कीड़े ख़ुद -ब -ख़ुद
बाहर निकल आते हैं

चीर कर सन्नाटा
रात के अंधेरे का
एक के बाद एक ये
गुनाह करते चले जाते हैं।

इनको न ज़िन्दगी से प्यार है
और न गुनाहों से है दुश्मनी
ज़िन्दगी का क्या मकसद है
ये भी नही पहचानते हैं।

रास्ता एक पकड़ लिया है
जैसे बस अपराध का
उस पर बिना सोचे ही
बढ़ते चले जाते हैं।

कभी कोई उन्हें
सही राह तो दिखाए
ये तो अपनी ज़िन्दगी
बरबाद किए जाते हैं।

चाँद की चाँदनी में
ज्यों दीखता है बिल्कुल साफ़
चलो उनकी ज़िन्दगी में
कुछ चाँदनी बिखेर आते हैं।

कोशिश हो सकती है
शायद हमारी कामयाब
स्याह रातों से उन्हें हम
उजेरे में ले आते हैं ।

एक बार रोशनी गर
उनकी ज़िन्दगी में छा गई
तो गुनाहों की किताब को
बस दफ़न कर आते हैं.

9 comments:

सुशील कुमार छौक्कर 8/29/2008 12:20 PM  

बहुत ही उम्दा लिखा है। बधाई।

masoomshayer 8/29/2008 12:23 PM  

AAP KE BHAVON KO SHABD BAHUT ACHHE MIL JAATE HAIN

ANIL

रश्मि प्रभा 8/29/2008 12:50 PM  

इनको न ज़िन्दगी से प्यार है
और न गुनाहों से है दुश्मनी
ज़िन्दगी का क्या मकसद है
ये भी नही पहचानते हैं।
............कितनी सही बात कह दी है आपने in पंक्तियों
के माध्यम से, बहुत सुन्दर जज़्बात

Dr. RAMJI GIRI 8/29/2008 1:09 PM  

कोशिश हो सकती है
शायद हमारी कामयाब
स्याह रातों से उन्हें हम
उजेरे में ले आते हैं ।

KUDDOS 4 SUCH AN OPTIMISM IN YOUR POETRY....

PARVINDER SINGH 8/29/2008 3:08 PM  

कोशिश हो सकती है
शायद हमारी कामयाब
स्याह रातों से उन्हें हम
उजेरे में ले आते हैं ।

Bahut khub Sangeetas ji
agar hum log milkar koshish kare vo bhi puri imaandari to smaaj mai gunho ko khatm kar sakte hai
bahut umda likha hai aapne

Aawara 8/29/2008 3:48 PM  

Ek aur achhi rachna ke saath aane ke liye ... shukriya ..

Bachpan mein ek kahani padha thaa .. Ki jungle mein rahne waale anpadh, junglee Angulimaal Daaku ko Gautam Buddh ne .. apne updeshon se .. Insaan nek-sharif banaya thaa ...

Per aajkal ki samasya thodi jateel haii... Yahan too padhe-likhe .. hoshiyaar-chaalak loag bhee bhrastachaar aur loot-paat pe utar aaye hain... Na jaane kabb .. phir koi Buddha aayengey aur inhe raasta dikhayengey ...

Waise .. Aapka yun .. Iss vishay per.. itni sanjidgii aur gambheerta se likhna bahut achha laga .. Soo.. Ek baar punah dhanyawaad..

Aapka

Yash..

"Nira" 9/01/2008 7:24 AM  

bahut ache shabdon se sawara hai aapne nazm ko

saanjhii 11/01/2008 3:02 AM  

kaash vo log ise pagh paate jinke liye likhi gayi hai.....zaroor ek baar unka dil unse poochta...shayad zehn jaag uthta aur vo badal jaate.....

aapki bhaavnaayen, aur unpar shabdon ke aabhooshan, dono hi bohot sundar aur sacche hai.....

bohot hi acchi rachna hai...

:-)

sangeeta 11/01/2008 8:11 AM  

sushil kumar, anil ji,rashmi ji, Dr. saaheb , parvinder, yash ,nira aur saanjhii ,

bahut bahut shukriya saraahna ke liye.
aabhaari hoon.
sangeeta

Post a Comment

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है...

आपकी टिप्पणियां नयी उर्जा प्रदान करती हैं...

आभार ...

हमारी वाणी

www.hamarivani.com

About This Blog

आगंतुक


ip address

  © Blogger template Snowy Winter by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP