copyright. Powered by Blogger.

बेटी .......प्यारी सी धुन

>> Sunday, September 21, 2008


न जाने क्यों आज भी
हमारे समाज में
हर घर परिवार में
पुत्र की चाहत का
इज़हार किया जाता है ।
गर बेटी हो जाए
तो माँ का तिरस्कार किया जाता है ।

कितनी मजबूर होती होगी
वो माँ
जो अपने गर्भ में
पलने वाले बच्चे को
मात्र इस लिए काल के
क्रूर हाथों के हवाले कर दे
कि वो बेटी है ।

नष्ट कर देते हैं
बेटी की  संरचना को
भूल जाते हैं सच्चाई कि
यही बेटियाँ सृष्टि रचती हैं ।
शायद ऐसे लोग बेटी की
अहमियत नही जानते हैं
बेटा लाख लायक हो
पर बेटियाँ
मन में बसती हैं
उनके रहने से
न जाने कितनी
कल्पनाएँ रचती हैं ।
बेटियाँ माँ का
ह्रदय होती हैं , सुकून होती हैं
उसके जीवन के गीतों की
प्यारी सी धुन होती हैं.

14 comments:

masoomshayer 9/22/2008 10:41 AM  

at ko jante hain par koyee aap kee tarah ahsas dila do baat asar kartee hai bahut achha hai

Anil

*KHUSHI* 9/22/2008 12:23 PM  

mai khud ek beti hu.. aur ek beti ki maa bhi hu.. to aap ki har baat samaj sakti hu.... aaj ke daur ki sacchai hai... bahut hi accha likha hai apane

Chaitanya 9/22/2008 1:45 PM  

yatharth ke dharatal par aaj bhi yahi sach hai ki betiyon ko bahut bhugatna hota hai chahe hamari mansikta kitni hi uthi hui ho parantu bat jab chunav ki ati hai to hamen beta hi shreshtha najar aata hai . Betian niswarth hoti hain , unmen mamtva hota hai, vah srishti ki rachyita hain par ek sach yah bhi hai ki unke hath men srishti nahin hai. ummid hai ki yah sab jald hi badlega....

रश्मि प्रभा 9/22/2008 2:57 PM  

सामाजिक सोच आज भी यही है,
बहुत सही चित्रण किया है.........

Dr. RAMJI GIRI 9/22/2008 6:31 PM  

BAHUT HI PRASANGIK RACHNA HAI....

"Nira" 9/22/2008 7:16 PM  

sangeeta ji
bahut sachai hai aapki kavita main.
lanat hai dekha jaye toh samajh par jo beti nahi chahte hain.

kisi ki beti ho toh bahu bankar aati, inka vansh aage badati hai. aor yeh samajh wale bete ki chah mein beti ko aane se pahle hi maar dete hain. bahut bhavook kar diya aapki rachna ne.
khush rahain aor yunhi samajhik vishayon par likhiti rahain.

nayeda 9/22/2008 9:44 PM  

betiyan maan ki baat puchhti hai, maan se bhi baap se bhi, dil ka dard gehrai se samjhati hai aaur us par marham lagane ka jazba rakhti hai. yadi anupat dekhen to 'female' ki tadad 'male' se kaam hai...fir bhi mashre men aaj bhi janam lene se pahile betiyon ka katl kar diya jata hai, padhe likhe log bhi is jurm men shareek hoten hai, yah aek ajeeb si vidambhana hai. aap ki yeh nazm jazbat, soch aaur samajik jagruti ka aek sandesha hai.bahut hi dil ko chhu lene wali aapki yeh rachna hum dono ke jigar aaur jehan ke bahot kareeb hai. regards. N & A.

Dr. Vijay Tiwari "Kislay" 9/22/2008 10:47 PM  

sangeeta jee
mamaskaar.
beti......... pyaari si dhun padhi achchhi lagi.. kanya bhroon hatya par likhi ya rachna aaj ki gammbheer samasya bhi hai
badhaai


नष्ट कर देते हैं
बेटी कि संरचना को
भूल जाते हैं सच्चाई कि
यही बेटियाँ सृष्टि रचती हैं ।
शायद ऐसे लोग बेटी की
अहमियत नही जानते हैं
aapka
vijay

taanya 9/23/2008 5:09 PM  

betiyo maa k dilo me basti hai aur isi tareh betiyo me b maa jaisa dil basta hai..isliye maa-beti ek dusre ki parchhayi..ek dusre ki poorak hoti hai..lekin afsos hamara purush pradhaan desh jisme nari b purush k chhalaave me aa ker uske jaisa sochti hai aur bete ko hi jyada maanyeta deti hai..aur is soch se sabse pehle naari ko hi ubherna padega..per lagta hai isme abhi bahut time lagega..

बेटियाँ माँ का
ह्रदय होती हैं , सुकून होती हैं
उसके जीवन के गीतों की
प्यारी सी धुन होती हैं.

ek dam sahi kehti hai aap is baat ko me mehsoos kar rahi hu lekin shayed un maao jitna fir b nahi kar paungi jo betiyo ki maaye hai..bt mujhe betiya bahut acchhi lagti hai..aur tum ek dam such kehti ho ki vo hridey,,sakoon,,jiwan ka geet aur dhun hoti hai..

कुणाल किशोर (Kunal Kishore) 9/24/2008 7:57 AM  

संगीता जी कविता बहुत ही अच्छी है पर पता नही कितनी प्रासंगिक है| ग्रामीण प्रष्ठभुमी मे भले ये बात सही हो पर समय बदल रहा है और अब लोग बेटे और बेटियो को बराबर के नजर से देख रहे है| मुझे इस समस्या का मुल कारण सिर्फ निरक्षरता और दहेज का भय लगता है|

मुझे ये पक्तिया विशेष कर पसन्द आई:

पर बेटियाँ
मन में बसती हैं
उनके रहने से
न जाने कितनी
कल्पनाएँ रचती हैं ।
बेटियाँ माँ का
ह्रदय होती हैं , सुकून होती हैं
उसके जीवन के गीतों की
प्यारी सी धुन होती हैं.

पर क्या बेटियाँ सिर्फ माँ का ह्र्दय होती है?? यकीन मानिये आज का पिता अपनी बेटियो के प्रति उतना ही सवेदनशील और जुडा हुआ महशुस करता है बल्की स्त्रीयो का शोषण स्त्रियो द्वारा ज्यादा होता है| उम्मीद है हम और आप मिलकर स्थती को बद्लेंगे और आने वाला कल भयमुक्त, शोषण-मुक्त और स्त्री-पुरुष समानता को और सुघढ बनायेगा|

GIRISH BILLORE MUKUL 10/01/2008 8:07 PM  

कितनी मजबूर होती होगी
वो माँ
जो अपने गर्भ में
पलने वाले बच्चे को
मात्र इस लिए काल के
क्रूर हाथों के हवाले कर दे
कि वो बेटी है ।
"इस बात से सहमत नहीं हूँ संगीता जी इसी मज़बूरी के रक्षा कवच को ओढ़ के नारी स्वयं ही पुरूष वादी सोच के सामने सर झुका देती है . समाज की कुरीतियाँ यही रीति को आकार देने लगती है गलीच सोच मै भी अपनी धर्मपत्नी से दु:खी हूँ जो टेलेंटेड बेटियों के होते हुए पुत्र का मोह नहीं छोड़ पाती, सोचिए क्या ये सही है

sangeeta 10/01/2008 8:44 PM  

girish ji ,
aap sahi farmaate hain. kabhi kabhi naari hi naari ki dushman hoti hai.samaaj us naari ko taana maarane se baaz nahi aata jisake beta nahi hota. haan aaj haalaat kuchh badale hain par abhi bhi ye kuriti chali hi aa rahi hai. aap jaise logon ki aap jaise soch waalon ki bahut zaroorat hai. shukriya

charisma 12/23/2009 4:44 PM  

chahe hum 21st century mein aa jaye ya 22nd .I doubt ki kabhi society ka betiyon ko lekar mind -set change hoga.jahan aapne sundar shabdon mein betiyon ke mahatva ko darshaya hai wahi dusri taraf maa ki mazboori ko bhi bakhobi explain kiya hai...liked these lines so much " बेटियाँ माँ का
ह्रदय होती हैं , सुकून होती हैं
उसके जीवन के गीतों की
प्यारी सी धुन होती हैं." .aapki sabhi rachnaye kaabile - taarif hain ' tanha' aur 'mokhata' bahut pasand aayi ...

आशा जोगळेकर 6/01/2014 10:57 PM  

सब कुछ जानते बूझते,संस्कारों की बेडियाँ हम तोड नही पाते। पर एक जीवन महज इसलिये कि वह लडकी है नष्ट करना क्रूरता की अति है।
बेटियाँ सचमुच माँ का ह्रदय होती हैं दिल का सुकून होती हैं, मन के गीतों की प्यारी सी धुन होती हैं।

Post a Comment

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है...

आपकी टिप्पणियां नयी उर्जा प्रदान करती हैं...

आभार ...

हमारी वाणी

www.hamarivani.com

About This Blog

आगंतुक


ip address

  © Blogger template Snowy Winter by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP