copyright. Powered by Blogger.

मेरा मन

>> Thursday, October 2, 2008

धूप में झुलसती हुई
ज़िन्दगी की
पथरीली सड़क पर
मेरा मन
नंगे पाँव चला जा रहा था।

कब राह में
ठोकर लगी ?
गर्म धूल के समान
तपते विचार
कब मन को झुलसा गए ?
कब आक्रोश के भास्कर ने
मन के भावों को
भस्म किया ?
कुछ अहसास नही ।

बस ये मन है कि
ज़िन्दगी की हर
सरल - कठिन , टेढी - मेढ़ी
स्वछन्द या कि
काँटों से भरी राह पर
चलता गया ।
कभी प्रसन्न वदन
खुशियाँ लुटायीं
तो कभी ग़मगीन हो
लहू - लुहान हो गया .

6 comments:

"Nira" 10/02/2008 11:16 PM  

कब राह में
ठोकर लगी ?
गर्म धूल के समान
तपते विचार
कब मन को झुलसा गए ?
कब आक्रोश के भास्कर ने
मन के भावों को
भस्म किया ?
कुछ अहसास नही ।

hum apni dhoon mein khoye chalte rahte nai
har ghum aor dard ko sameite. rah chahe chanv ki ho ya garam rait ki.
aapne bahut acha likha hai,
bahdai

NirjharNeer 10/03/2008 9:49 AM  

aapki har rachna ahsasoN ka sajeev chitran hai..

masoomshayer 10/03/2008 11:09 AM  

बस ये मन है कि
ज़िन्दगी की हर
सरल - कठिन , टेढी - मेढ़ी
स्वछन्द या कि
काँटों से भरी राह पर
चलता गया ।
कभी प्रसन्न वदन
खुशियाँ लुटायीं
तो कभी ग़मगीन हो
लहू - लुहान हो गया .


shabd to sab aap likh detee hain ham kya likhen

Anil

रश्मि प्रभा 10/03/2008 1:03 PM  

कब राह में
ठोकर लगी ?
गर्म धूल के समान
तपते विचार
कब मन को झुलसा गये ?
कब आक्रोश के भास्कर ने
मन के भावों को
भस्म किया ?
कुछ अहसास नही.
..........
kin shabdon me kahun ki in panktiyon ne kya asar kiya hai
kush ehsaas mahsoos kiye ja sakte hain

Rani Mishra 10/03/2008 4:27 PM  

"ज़िंदगी की
पथरीली सड़क पर
मेरा मन
नंगे पाँव चला जा रहा था"
ऐसा लग रहा है आपने इन पंक्तियों में मेरे मन के भावो को यथार्थ चित्रण दिया है......
सचमुच ज़िन्दगी की इस कठोर सड़क पर मेरा मन नंगे पाँव चल रहा है,
जिसमे कष्ट रूपी पत्थर छुभ रहे है........
"कब राह में
ठोकर लगी ?
गर्म धूल के समान
तपते विचार
कब मन को झुलसा गये ?
कब आक्रोश के भास्कर ने
मन के भावों को
भस्म किया ?
कुछ अहसास नही"
सचमुच मन के भावः नष्ट हो चुके है,
ज़िन्दगी की इस तपती ज़मीन पर मन झुलस गया है...........
"कभी प्रसन्न वदन
खुशियाँ लुटाई
तो कभी गमगीन हो
लहू - लुहान हो गया"
जीवन सत्य का सार है ये आपकी रचना!

taanya 10/03/2008 5:21 PM  

hmmmmm ye zindgi ki dhoop chhaav...kabhi teekhi..kabhi shaant per her ek ko sehni padti hai..aur sambhalna b padta hai..

dard se bherpoor ehsaas...nice sharing.

Post a Comment

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है...

आपकी टिप्पणियां नयी उर्जा प्रदान करती हैं...

आभार ...

हमारी वाणी

www.hamarivani.com

About This Blog

आगंतुक


ip address

  © Blogger template Snowy Winter by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP