copyright. Powered by Blogger.

ख्वाहिश मौत की

>> Wednesday, November 12, 2008

यूँ तो हर आँख
यहाँ बहुत रोती है
हर बात हद से गुज़र जाए
तो बुरी होती है
ज़िन्दगी को हर पल
मापना ज़रूरी है
वरना ये ज़िन्दगी
हर भार से भारी होती है।
हमने मार डाला है आज
अपने हाथों से सारे ज़ज्बातों को
क्यों कि ज़ज्बातों से भारी
फ़र्ज़ की ज़िम्मेदारी होती है
यूँ ही फ़र्ज़ निबाहते हुए
रीत जायेगी ये ज़िन्दगी
जिंदा रहने के लिए
ये साँस भी ज़रूरी होती है
साँसों का ये दौर
यूँ ही चले भी तो क्या है
मौत की ख्वाहिश होते हुए भी
जिंदा रहना भी एक मजबूरी होती है.

3 comments:

taanya 11/14/2008 4:38 PM  

yu to zindgi kanto ki chubhen liye hoti he
per koi chubhen lahuluhan bhi kiye jati hai..
u dard me bil-bilate hue..
zindgi se muh to moda nahi ja sakta..
kyuki zindgi khud ki ho k bhi to khud ki nahi hoti hai..!!

kisi ne kaha hai khoob ye bhi..na jane kya soch kar..seh kar..
khud k liye jiye to kya jiye...
zindgi vo he jo auro k liye jii jati hai..

sangeeta ji ek sher u hi is zindgi per likh dala tha jo aapki nazer hai..

दर्द भरे दिल में आज मुहोब्बत को मरते देखा है
मजबूरियों के बोझ में जज्बातों को कुचलते देखा है
हैरत नही आज, मौत भी आ जाए अगर ,,,,
पल पल चिता की लपटों में ख़ुद को जलते देखा है .!!

aapki rachna se mail khata hua sa laga ye sher..isliye yaha post kiya..

aapki rachna ne ander tak hila diya hai..ab aurr nahi hilna chaahti (ha.ha.ha.ha.) so aur kuch nahi likhungi..

apna dhyaaaaaaan rakhiyega..shubhkamnaao k sath
urssssss

shikha varshney 11/27/2008 12:54 AM  

sach ye jimmedari esi hi hoti hain...harek ke jajvaton ko shabd diye hain aapne

R.K.Khanna,  4/15/2010 10:20 PM  

simply beatiful and touching ! last two lines are wonderful- maut ki khwahish hote hue bhi, zinda rahna bhi ek majboori hoti hai.

- khanna - khanna_env@yahoo.com

Post a Comment

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है...

आपकी टिप्पणियां नयी उर्जा प्रदान करती हैं...

आभार ...

हमारी वाणी

www.hamarivani.com

About This Blog

आगंतुक


ip address

  © Blogger template Snowy Winter by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP