copyright. Powered by Blogger.

दिल की बात

>> Sunday, December 14, 2008


दीवारों से मैंने अपना
कलाम कह दिया है ,
मैंने सुना है कि
दीवारों के कान होते हैं।
कलाम भी क्या ?
बस यूँ ही
दिल की बात है
हवाएं भी आज - कल कुछ
भीगी - भीगी सी लग रही हैं।
सोच को तो जैसे
पंख लग गए हैं
आसमान के चाँद से
कुछ गुफ्तगू हो रही है।
चाँदनी मुस्कुरा के
कह गई है कानों में
ख्यालों की दूब पर
शबनम बिखरी हुई है।
मोती जो शबनम के मैंने
समेटे अपनी झोली में
धागे में पिरो जैसे
वो एक कविता सी बन गई है।
इस कविता को भी मैं अब
किसको और क्यूँ कर सुनाऊँ
इसिलए मैंने वो सब
दीवारों से कह दिया है।
चाहा - अनचाहा सारा
जज्ब कर लेंगी वो शायद
मैंने तो यूँ कह कर बस
अपना मन हल्का कर लिया है.

10 comments:

taanya 12/15/2008 4:14 PM  

sangeta ji bahut acchhi soch...kash toda aur aap iske aage bhi likhti to acchha lagta...apki kavita padh k ek gaane k bol yaad aa gaye..

Tera sath hai to mujhe kya kami hai..
andhero se bhi mil rahhi roshni hai..

MERE SAATH TUM MUSKURA KE TO DEKHO..
UDAASI KA BAADAL HATA KE TO DEKHO..

...

hope u wil like it..

vinsaint 12/17/2008 2:32 PM  

hame jab kuchh aise aehsas hone lagten hain ki hum deewaron se kah rahe hain, sahi men hum khud ko hi sambodhit karten hain aaur yadi sahi 'dialogue' ho jaye khud ka khud se to bas koyee confusion nahin rahta...han yadi deewar ko shrota man hum mahaz 'monologue' hi kar thahar jaten hain...to nateeza...?

rama 12/17/2008 9:54 PM  

dIL KI BAAT ....WAAAH WAAAH KHUB LIKHA HAI.

Taru 12/14/2009 11:01 PM  

ohhhhhhh ! bahut khoobsoorat rachnaaaaa.......:)

bahut saadi aur nanhi kali k samaan taaza..:)

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) 8/29/2011 5:48 PM  

कल 30/08/2011 को आपके दिल की बात नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
धन्यवाद!

ana 8/30/2011 7:57 AM  

itne achchhe shabdo ke saath ye kavita........wakai kamaal ka lekhan

सदा 8/30/2011 1:00 PM  

बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

वन्दना 8/30/2011 1:20 PM  

यही तो होती है दिल की बात दिल से…………बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

Apanatva 8/30/2011 3:51 PM  

wah kya baat hai...

Minakshi Pant 8/31/2011 7:59 PM  

चाहा - अनचाहा सारा
जज्ब कर लेंगी वो शायद
मैंने तो यूँ कह कर बस
अपना मन हल्का कर लिया है |
बहुत सुन्दर दी किसी से भी कह दो तो दिल हलका हो ही जाता है |
बहुत सुन्दर रचना |

Post a Comment

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है...

आपकी टिप्पणियां नयी उर्जा प्रदान करती हैं...

आभार ...

हमारी वाणी

www.hamarivani.com

About This Blog

आगंतुक


ip address

  © Blogger template Snowy Winter by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP