copyright. Powered by Blogger.

सच क्षितिज का........

>> Sunday, December 21, 2008


द्वंद्व में घिरा मन
कब महसूस कर पाता है
किसी के एहसासों को ?
और वो एहसास
जो भीगे - भीगे से हों
मन सराबोर हो
मुहब्बत के पैमाने से
लब पर मुस्कराहट के साथ
लगता है कि -
प्यार के अफ़साने
लरज रहे हों।
नही समझ पाता ये मन -
कुछ नही समझ पाता ,
ख़ुद के एहसास भी
खो से जाते हैं
सारे के सारे अल्फाज़
जैसे रूठ से जाते हैं
कैसे लिखूं
अपने दिल की बात ?
न मेरे पास
आज नज़्म है , न शब्द
और न ही लफ्ज़
खाली - खाली आंखों से
दूर तक देखते हुए
बस क्षितिज दिखता है ।
जिसका सच केवल ये है कि
उसका कोई आस्तित्व नही होता ।

6 comments:

taanya 12/22/2008 9:59 AM  

द्वंद्व में घिरा मन कब महसूस कर पाता है किसी के एहसासों को ? और वो एहसास जो भीगे - भीगे से हों मन सराबोर हो मुहब्बत के पैमाने से लब पर मुस्कराहट के साथ लगता है कि - प्यार के अफ़साने लरज रहे हों। नही समझ पाता ये मन -
--sangeeta ji aap khud hi bayaan kar rahe hai us kisi ke ehsaaso ko ki vo bheege ehsaas...sarabor man.....larazte afsaane ...to fir kaise keh rahe hai ye baat ki dwand se ghira man mehsoos nahi kar raha...dear mehsoos to sb kar raha hai..

haa.n dwand hai aur vo bhi itna adhik ki aap apni kashmokash me itni ghiri hai ki man-manthan kar un maanik-motiyo ko baher nikaal nahi paa rahi hai..aur isi vivashta me aapka kavi man vivash ho khaali aankho se kShitiz ko dekhta hai aur use bhi khali khali sa paata hai..aaaaaaaah...kaisa dwand hai...kaisi vaidna hai...kaisi vidambna hai ki ye kashmokash aur dwand ke ghanere baadal chhat bhi nahi paate...

prey karti hu ki aap jald hi in baadlo ko chhat paaye aur drishti ke sonderye ko aur us pyaar ke ehsaaso ko mehsoos kar paaye..

ummeede jaari rakhiye...kabhi to nayi subeh aayegi...jald hi aayegi..isi dua ke saath..

"Nira" 12/24/2008 10:52 PM  

ek bar phir achi rachna mili padhne ko aap se.hamesha ki tarha ati uttam likha hai.

ache ehsaason ko pesh kiya hai.

रश्मि प्रभा 12/29/2008 12:11 PM  

द्वंद में घिरा मन अपने एहसासों से अनजान हो जाता है,तो दूसरे को क्या समझेगा !
बहुत सही मनोदशा .........

NirjharNeer 12/29/2008 2:28 PM  

ati sundar ..kashmakash ka bhaav
dwand aksar har insan mehsoos karta hai

vinsaint 12/29/2008 8:34 PM  

anubhutiyon aaur anubhavon ko shabd dene ka prayas hai yah aapki rachna...aek samay vishesh ke manobhavon ka sundar chitran hai.

masoomshayer 12/29/2008 9:48 PM  

bahut achhe man se bahut achee see likhee kavita

Anil

Post a Comment

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है...

आपकी टिप्पणियां नयी उर्जा प्रदान करती हैं...

आभार ...

हमारी वाणी

www.hamarivani.com

About This Blog

आगंतुक


ip address

  © Blogger template Snowy Winter by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP