copyright. Powered by Blogger.

नीला आसमान

>> Wednesday, December 24, 2008





मैं -


आसमान हूँ ,


एक ऐसा आसमान


जहाँ बहुत से


बादल आ कर


इकट्ठे हो गए हैं


छा गई है बदली


और


आसमान का रंग


काला पड़ गया है।



ये बदली हैं


तनाव की , चिंता की


उकताहट और चिडचिडाहट की


बस इंतज़ार है कि


एक गर्जना हो


उन्माद की


और -


ये सारे बादल


छंट जाएँ



जब बरस जायेंगे


ये सब तो


तुम पाओगे


एक स्वच्छ , चमकता हुआ


नीला आसमान.

4 comments:

"Nira" 12/24/2008 10:39 PM  

sangeeta ji
aapne man aor akash ke madhayam bahut achi tulna ki hai

humara man bhi ghahre vichaonke baadalon se bhar jata hai aor anshoon kki barish usse halka kar deti hai.

bahut achi rachna likhi hai
badhai

taanya 12/27/2008 1:36 PM  

Sangeeta ji rachna bahut acchhi hai jo man ke bhaavo ko vyakt karti hai...

Neele aasman ko khud hi in baadlo ko hataane ka prayaas karna padega..aur is tanaav, chinta, uktahat aur chidchidahat ke baadlo ko hataane ke liye jis kondhaane wali chamakti bijli ki jarurat hai use bhi us aasmaan ko apne ander se jaagrit karna hoga aur ghanghor gad-dadhaat aur garzanaa ko paida kar fir se apni chamak ko vaapis lana hoga...

ham bhi is neele aasman ki chamak ko dekhne ke liye betaab hai...

ek shakt rachna ....badhayi..

प्रदीप मानोरिया 1/13/2009 9:17 AM  

बहुत भावनात्मक रचना आपकी लेखनी मैं रोशनाई नही मानो दर्द भरा है संवेदनाएं भरी हैं आँखों के कोर के निब से संवेदनाओं की रोशनाई से रची इस रचना के लिए साधू बाद
प्रदीप मानोरिया
09425132060

अनुपमा पाठक 10/18/2010 4:31 PM  

bahut sundar rachna!
neele ambar ki aabha vyakt ho!!!
regards,

Post a Comment

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है...

आपकी टिप्पणियां नयी उर्जा प्रदान करती हैं...

आभार ...

हमारी वाणी

www.hamarivani.com

About This Blog

आगंतुक


ip address

  © Blogger template Snowy Winter by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP