copyright. Powered by Blogger.

राहें

>> Monday, December 29, 2008


तड़प के रह जाता है

मन मेरा

जब कोई मुझसे

मेरा पता पूछता है ।

सोचती हूँ कि

कह दूँ -

अपने दिल के आईने में

झाँक कर देख लो ।


पर हर शख्स के

दिल में आईने

नही होते

जो मैं ख़ुद को भी

तलाश सकूँ वहाँ पर।


पूछने वाले

अक्सर पूछ लेते हैं

और मैं हमेशा

हंस कर कह देती हूँ कि

इसकी ज़रूरत क्या है?


क्यों कि मैं जानती हूँ कि

मुझे आज भी शायद

ज़िन्दगी की राहों पर

ठीक से चलना नही आता

और राहें भी शायद

मुझ तक पहुँच नही पाती हैं।

इसीलिए किसी का भी

मुझ तक पहुंचना

नामुमकिन सा होता है.

10 comments:

स्वप्निल कुमार 'आतिश' 12/31/2008 12:32 PM  

oh mummaaaaaaa

kitni sach hai ye kavita....

mai janta hun ki kis manosthiti me ye likhi gayi hogi....

par aisa nahi hai mumma...

aap se to mai humesha mil sakta hun...
mai apne dil me tooota hi..ik aaiina rakhta hun

Kriti.. 1/01/2009 12:15 PM  

yun hi aayi.. ruk nahi pyaai.. bahut hi pyaari kavita hai..!!

taanya 1/06/2009 5:13 PM  

Na jane sangeeta ji aisa kyu laga ki main iske liye rev.de chuki hu..

कह दूँ -
अपने दिल के आईने में
झाँक कर देख लो ।
isi se zahir hota he ki aapka dil kitna saaf hai aayine ki tareh jise dekh kar hi aapke baare me jaan liya ja sakta hai..
acchi abhivyakti..
पर हर शख्स के
दिल में आईने
नही होते
जो मैं ख़ुद को भी
तलाश सकूँ वहाँ पर।

sahi kahaa aapne har koi itna swatch aayina liye nahi ghoomta..means sb itne saaf dil wale bhi to nahi..jaha aap khud ko dekh sake..

पूछने वाले
अक्सर पूछ लेते हैं
और मैं हमेशा
हंस कर कह देती हूँ कि
इसकी ज़रूरत क्या है?
-ha.ha.ha...ye duniyadarri bhi jaruri he

क्यों कि मैं जानती हूँ कि
मुझे आज भी शायद
ज़िन्दगी की राहों पर
ठीक से चलना नही आता
और राहें भी शायद
मुझ तक पहुँच नही पाती हैं।
इसीलिए किसी का भी
मुझ तक पहुंचना
नामुमकिन सा होता है.

-hmmmmmmm fir vahi gam aur vivashta ke baadal umad aaye hai..lekin ye b ek katu satye hai...na jaane ham samaaj k hisaab se kabhi chal b paayenge ya nahi..aur isi liye shayed ham apni manzilo se,apni raaho se bhatak jate hai aur fir dusre to kya ham khud bhi apne aap tak nahi pahuch paate..
ajeeeeeeeb mano-sthiti hoti hai..
aaaah...atthhaah kashmokash....!!

Taru 12/14/2009 10:55 PM  

Mumma Aunty............

bahut hi badhyaan kavita likhi hai.....mere mann k aur life ke bhi bahut nazdeek...........

abhi abhi zehan ne kaha...ki aapki bahut si kavitaayein gulaab jal mein doobi rui ke faahe ki tarah hoti hain............jinhe dil ki ankhon per rakh letin hoon aksar main.....:)

LOVE YOU...................muaaaaaah !!

behatreen rachna ke liye badhayi bhi..:)

Apanatva 1/25/2010 2:38 AM  

aaina aur rakh douno hee bimb lagata hai aap ke kafee dil ke kareeb hai.
kavita bahut pasand aai.

संतोष कुमार 11/26/2011 7:14 AM  

वाह ! दिल को छु गई बहुत ही सुंदर रचना ...

मनीष सिंह निराला 11/26/2011 10:57 AM  

बहुत सुन्दर एवं लाजबाब ..!
आभार आपका !

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) 11/26/2011 11:04 AM  

बहुत खूब आंटी।

सादर

सदा 11/26/2011 11:56 AM  

वाह ....बहुत ही बढि़या।

S.M.HABIB (Sanjay Mishra 'Habib') 11/26/2011 3:46 PM  

वाह! दी...
बहुत सुन्दर रचना...
सादर..

Post a Comment

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है...

आपकी टिप्पणियां नयी उर्जा प्रदान करती हैं...

आभार ...

हमारी वाणी

www.hamarivani.com

About This Blog

आगंतुक


ip address

  © Blogger template Snowy Winter by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP