copyright. Powered by Blogger.

आखिरी और पहली कील

>> Thursday, December 18, 2008


मैंने ---

अपनी सारी भावनाओं ,

सोच , इच्छा ,

उम्मीद और अनुभवों को

कैद कर दिया है

एक ताबूत में ,

और

ठोक दी है उसमें

एक अन्तिम कील भी ।


अब तुम चाहो तो

दफ़न कर सकते हो

ज़मीन के अन्दर

और न भी करो तो

कोई फर्क नही पड़ता ।


अब इनका बाहर आना

नामुमकिन है ,

बस ---

मुमकिन होगा तब ही

जब मैं ख़ुद

उखाड़ दूँ

इस ताबूत की

पहली कील को ।



1 comments:

taanya 12/20/2008 4:57 PM  

jaha shuru me rachna ko padh kar niraasha ka ehsaas hota hai..vahi rachna ki end ki lines...
बस ---
मुमकिन होगा तब ही
जब मैं ख़ुद
उखाड़ दूँ
इस ताबूत की
पहली कील को ।
umeede sir uthaati hui nazer aati hai...jo andhkaar ko tod ujaas ki taraf jane k prayaas ka ehsaas deti hai..

aur ham umeed karte hai sangeeta ji ki vo pehli keel hi praysrat ho aur jald se jald aap us taaboot k kaid se baaher aaye..

ek umda rachna...badhaayi..

Post a Comment

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है...

आपकी टिप्पणियां नयी उर्जा प्रदान करती हैं...

आभार ...

हमारी वाणी

www.hamarivani.com

About This Blog

आगंतुक


ip address

  © Blogger template Snowy Winter by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP