copyright. Powered by Blogger.

चेहरा भीड़ का

>> Wednesday, March 18, 2009


जंगलात के ठेकेदार हैं कि
जंगल काट रहे हैं
और शहर है कि
इंसानों का जंगल बन गया है ।
अनजानी राहों पर
अजनबी चेहरे
हर शख्स के लिए
अकेलेपन का
सबब बन गया है ।
भीड़ में भी रह कर
क्यूँ तनहा है आदमी
हर शहर है कि
भीड़ का
जलजला बन गया है ।
गाँव की धरोहरें
जैसे बिखर सी गयीं हैं
पलायन ही ज़िन्दगी का
सफर बन गया है ।
दो रोटी की चाह में
घर से बेघर हो
आम आदमी
भीड़ का
चेहरा बन गया है ।

6 comments:

JHAROKHA 3/18/2009 11:05 PM  

भीड़ में भी रह कर क्यूँ तनहा है आदमी हर शहर है कि भीड़ का जलजला बन गया है ।
आदरणीय संगीता जी,
अपने बिलकुल सही लिखा है अपनी कविता में ...
आज हर आदमी सिर्फ भीड़ में खो कर रह गया है ...बहुत अच्छी कविता
पूनम

creativekona 3/20/2009 11:28 PM  

Adarneeya Sangeeta ji ,
bahut badhiya kavita ..badhiya bhav aur shilp ke sath....
Hemant Kumar

masoomshayer 3/22/2009 8:35 AM  

do rotee kee chaah men.....bahut hee achha sangeeta jee

"जीत_इन्दौरी" 3/25/2009 9:14 PM  

इंसानों के जंगल, बहुत खूब संगीता जी, सच ही तो कहा है आपने, पहले सचमुच के जंगल हुआ करते थे, और अब इंसानों के जंगल बन गए है, और इस विकट परिस्थिति से सिर्फ शहर ही नहीं बल्कि गाँव भी गुजर रहे है,
लेकिन कारण सिर्फ एक है,,,,,, दो वक्त की रोटी,
सच्चाई के धरातल से जुडी हुयी रचना,
अच्छा लगा पड़कर.
साधुवाद

Anamika 4/09/2009 12:27 PM  

roti ki chaah ne
apno ko chhoda he..
pyar ka koi mol nahi..
bas paisa hi her rishta hai..
ik roti fir duji roti
fir aur roti aur..
aur... fir aur kuchh
bas u chaaht badti jati hai..

tadap rahe ma-baap
apni aulad ko dekhne ko..
pardes me baitha beta
bas do paise bhej
apna kartavye jana hai..

dukh hota he ye dekh mujhe
per sab ye waqt ka
chala aisa pahiya hai..
baap bada na bhaiya
sab se bada rupaiya hai..!!

sangeeta ji aapki is rachna ne mano mujhe ek baar ko us dard se saamna kara diya jise aaj her maa-baap apne baccho ki judayi me sehen kar til-til mar raha hei...kheez uthi hai ki kyu hm paiso ke gulam ho chuke hai..lekin fir vahi baat ki her ma-baap apne baccho ko sukhi dekhna chaahte hai aur unhe lagta he ki unke bacche sukh-suwidhapoorn zindgi baser kar rahe he is paise ki vajeh se to vo apna akelepan ka dukh bhool jate he..!!
marmsparshi rachna..

Post a Comment

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है...

आपकी टिप्पणियां नयी उर्जा प्रदान करती हैं...

आभार ...

हमारी वाणी

www.hamarivani.com

About This Blog

आगंतुक


ip address

  © Blogger template Snowy Winter by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP