copyright. Powered by Blogger.

प्रेम

>> Sunday, June 21, 2009



प्रेम तो

अनमोल है ।

तो मूल्य

कैसे लगाया जाये?

उम्मीद कर देती है

कत्ल प्रेम का

और चाहत

छीन लेती है सुकून

ख्वाहिशों को

इतना न बढाओ

कि प्रेम की

ख्वाहिश ही

ख़त्म हो जाए ।


प्यार में

इल्जाम नहीं होता

और न ही ये

हाथों की लकीरों में

मिलता है

बस चाहिए इसे केवल

दिल का एक कोना

जहाँ ये

भर -पूर खिलता है ।

जब तक सांस है

तब तक

प्रेम का नाम है

फिर भी न जाने क्यूँ ?

इनकी वफाई पर

इल्जाम आता है ।

गर प्यार है तो

कुछ हासिल करने की

चाहत न करो और

अपने प्यार को कभी

गुनाह का नाम न दो...

1 comments:

Anamika 7/15/2009 11:37 PM  

Sangeeta ji..is rachna me kuchh bate aap se sehmat karti hai aur kuchh nahi bhi..jaise ye sahi baat hai ki pyar anmol hai.lekin jaha pyar hota hai vahi umeede khud-b-khud ban jati hai..aur ITNA PREM NA BADHAO..ye sab limit me nahi hota balki iski koi limit nahi hoti. Ha.n apki is baat se sehmat hu ki prem jab jakdan dene lagta hai to dukhdayi ban jata hai.
kshama kijiyega aapki rachna ki aalochna hui..per main ye baat kisi ek se relate kar ke nahi keh rahi hu ye aam soch ki baat hai..aisa hi normally hota hai prem me...koi baat apke komal hridye ko thais pahucha rahi ho to kshama yachak hu..apko dukhi karna ka mera irada bilkul nahi hai.

Post a Comment

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है...

आपकी टिप्पणियां नयी उर्जा प्रदान करती हैं...

आभार ...

हमारी वाणी

www.hamarivani.com

About This Blog

आगंतुक


ip address

  © Blogger template Snowy Winter by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP