copyright. Powered by Blogger.

मौन

>> Wednesday, November 4, 2009



जब व्यापता है

मौन मन में

बदरंग हो जाता है

हर फूल उपवन में

मधुप की गुंजार भी


तब श्रृव्य होती नहीं


कली भी गुलशन में


कोई खिलती नहीं ।



शून्य को बस जैसे


ताकते हैं ये नयन


अगन सी धधकती है


सुलग जाता है मन ।


चंद्रमा की चांदनी भी


शीतलता देती नहीं


अश्क की बूंदें भी


तब शबनम बनती नहीं ।


पवन के झोंके आ कर


चिंगारी को हवा देते हैं


झुलसा झुलसा कर वो


मुझे राख कर देते हैं



हो जाती है स्वतः ही


ठंडी जब अगन


शांत चित्त से फिर


होता है कुछ मनन



मौन भी हो जाता है


फिर से मुखरित


फूलों पर छा जाती है

इन्द्रधनुषी रंजित

अलि की गुंजार से

मन गीत गाता है

विहग बन अस्मां में

उड़ जाना चाहता है ..

9 comments:

Apanatva 11/04/2009 7:29 PM  

man kee sthiti man hee jane .kabhee kabhee antaermukhee hone me badee sheetalata milatee hai .

आमीन 11/04/2009 7:35 PM  

bahut achha likha hai... aabhar

ओम आर्य 11/04/2009 8:01 PM  

बहुत ही प्यारी कविता जो सिर्फ और सिर्फ मन के आंगन से ही उठ सकती है ऐसी भावे ! अतिसुन्दर!

दिगम्बर नासवा 11/05/2009 7:26 PM  

कभी कभी मौन में पूरा जीवन ही व्याप्त हो जाता है ......... गहरे एहसास हैं इस रचना मैं ............

महफूज़ अली 11/06/2009 12:34 PM  

bahut achchi lagi yeh kavita......... bahut hi gahre ehsaas hain ismein.........

ρяєєтι 11/06/2009 7:01 PM  

maun ka avlokan accha hai...

शोभना चौरे 11/08/2009 12:10 AM  

जब मौन मुखर होता है तो बहुत कुछ कह देता hai

naturica 11/08/2009 10:29 AM  

भीतर कहीं छू गयी आपकी कविता...आभार
orkut ब्लॉग की sidebar में
श्रीमती के नाम ghazal

shikha varshney 12/01/2009 3:45 PM  

achhci hai di...prabhvshali rachna hai...par u know mujhe aapka kaun sa rang priy hai :)

Post a Comment

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है...

आपकी टिप्पणियां नयी उर्जा प्रदान करती हैं...

आभार ...

हमारी वाणी

www.hamarivani.com

About This Blog

आगंतुक


ip address

  © Blogger template Snowy Winter by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP