copyright. Powered by Blogger.

बंदिशें

>> Friday, October 3, 2008

बंदिशें ज़िन्दगी में

हर पल कुछ यूँ

हावी हो जाती हैं

चाहता है कुछ मन

पर ख्वाहिशें

पूरी नही हो पाती हैं ।

यूँ तो हम सब

ज़िन्दगी जी ही लिया करते हैं

सुख के पल भी ज़िन्दगी में

अनायास ही पा लिया करते हैं ।

हंस लेते हैं महज़ हम

इत्तफाक से कभी कभी

खुश हो लेते हैं यह सोच

कि ज़िन्दगी में कोई कमी तो नही ।
पर गायब हो जाती है मुस्कान
ये सोच कि -
हम कौन सा पल
अपने लिए जिए ?
अब तक तो मात्र
सबके लिए फ़र्ज़ पूरे किए।
कौन सा लम्हा है हमारा
जिसे हम सिर्फ़ अपना कह सकें
और उस लम्हे को अपनी
धरोहर बना सकें ।
ढूंढे से भी नही मिलता वो एक पल
जो हमने अपने लिए जिया हो
बंदिशों के रहते
किसी पल को भी अपना कहा हो।
रीत जाती है ज़िन्दगी
बस यूँ ही चलते - चलते
बीत जाती है ज़िन्दगी
बंदिशों में ढलते - ढलते .

14 comments:

"Nira" 10/04/2008 1:58 AM  

ढूंढे से भी नही मिलता वो एक पल
जो हमने अपने लिए जिया हो
बंदिशों के रहते
किसी पल को भी अपना कहा हो।
रीत जाती है ज़िन्दगी
बस यूँ ही चलते - चलते
बीत जाती है ज़िन्दगी
बंदिशों में ढलते - ढलते .
zindgi bandishon mein ghiri rahti hain, aise nahi ki sari bandishen buri hoti, jin mein pyaar ki mahak ho vo toh dil ko bhanti hai.

par jo jeena hi mushkil karde, vo bandish maut nazaar aati hai.

aapne bahut ache shabdon mein har bandish ka zikr kiya hai,
badhaiiiiiiiii

makrand 10/04/2008 11:56 AM  

बीत जाती है ज़िन्दगी
बंदिशों में ढलते - ढलते .

bahut sunder bandish ki lines

umra sab se badha anubhav hey
dhalna to iski phitrat hey

regards

रश्मि प्रभा 10/04/2008 12:30 PM  

पर गायब हो जाती है मुस्कान
ये सोच कि -
हम कौन सा पल
अपने लिए जिए ?
अब तक तो मात्र
सबके लिए फ़र्ज़ पूरे किए।
कौन सा लम्हा है हमारा
जिसे हम सिर्फ़ अपना कह सकें
और उस लम्हे को अपनी
धरोहर बना सकें ।
.......
ज़िन्दगी का सच जब शब्द रूप लेता है तो उसे पढना
सुकून देता है संगीता जी........एक बेमिसाल रचना

Rani Mishra 10/04/2008 12:42 PM  

इत्तफाक से कभी कभी
खुश हो लेते हैं यह सोच
कि ज़िन्दगी में कोई कमी तो नही
मन में हर पल चल रहे इस कड़वे सच को आपने आज शब्द दे ही दिए.........
हम पैदा होते है, उसी पल से बन्धनों में बांध जाते है.....
फिर पूरी उम्र निकल जाती है उन्ही बन्धनों में उलझे उलझे.......
हम कौन सा पल
अपने लिए जिए ?
अब तक तो मात्र
सबके लिए फ़र्ज़ पूरे किए।
मैं इन पंक्तियों को सिर्फ स्त्री के बंधन से ही सोच रही हूँ.....
हर पल कोई न कोई फर्ज निभाना होता है,
शादी से पहले बेटी, बहिन होने का फर्ज निभाना है.......
कुछ भी उसके अपने लिए नहीं है जो वो खुद की मर्जी से कर सके........
और शादी के बाद एक पत्नी, एक बहु, एक भाभी, एक माँ इन सभी के फर्ज निभाने है..........
इन सब से हट कर कभी कोई उससे ये पूछने नहीं आएगा की वो खुद क्या है.........?????
क्या उसकी अपनी भी कोई इच्छा है.........????
ढूंढे से भी नही मिलता वो एक पल
जो हमने अपने लिए जिया हो
हर पल सिर्फ एक बंधन....... एक बंदिश का एहसास.......
सिर्फ मोत ही है उसकी अपनी, उसके लिए..........

masoomshayer 10/04/2008 12:46 PM  

हम कौन सा पल
अपने लिए जिए ?
अब तक तो मात्र
सबके लिए फ़र्ज़ पूरे किए।
कौन सा लम्हा है हमारा
जिसे हम सिर्फ़ अपना कह सकें
और उस लम्हे को अपनी
धरोहर बना सकें ।
ढूंढे से भी नही मिलता वो एक पल
जो हमने अपने लिए जिया हो
बंदिशों के रहते
किसी पल को भी अपना कहा हो।
रीत जाती है ज़िन्दगी
बस यूँ ही चलते - चलते
बीत जाती है ज़िन्दगी
बंदिशों में ढलते - ढलते .
bahut hee achha laga in panktiyon ko padhana bahut khoob likha hai

Anil

BrijmohanShrivastava 10/04/2008 3:30 PM  

बहुत सुंदर रचना =शिव मंगल सिंह सुमन की कविता ""सांसों का हिसाब दो "से मिलते जुलते भावः

nayeda............ 10/04/2008 3:53 PM  

rachna mahaz nazm nahin jindagi ka sinhawalokan hai,har baat dusron ke nazar chadhti hai, aisa hi kuchh mashre ka dastur hai,naam apna...magar istemal jiyadah karten
hain doosre, religion generally aap nahin chun-te jis khandan men janam liya usika religion aaur riti-rawaz bina jehan ko mashakkat diye ho jaten hai aapke, fir jeene ka daur khas kar aaurat ka....dusron ke liye...dusron ki nazren dekhte hue,mashra keh deta hai tyag aaur balidan ki murat...aaur chhutti.....koi khud ke liye jeene ki shuruat bhi kar leta hai to sirf upari baaton jaise economic independence wagerah par aakar khatm...apne antarman keliye--apne 'essence'ke liye jeena birlon ko hi hasil hota hai, wazah khud ho ya society magar hota kuchh aisa hi hai, hamari bahri aaur andruni bandishe aaur conditioning aek 'code of conduct' baan ke reh jati hai aaur insan bas anjane men hi aise halat ka shikar ho jata hai. is tadaf ko khoob sanjoya hai aapki is nazm ne.
padhna, sochna aaur yeh alfaz likhna achha laga. regards.

NirjharNeer 10/04/2008 4:19 PM  

ढूंढे से भी नही मिलता वो एक पल
जो हमने अपने लिए जिया हो

bahot khoobsurati se talkh haqiqatoN ko kah jati ho tum..
as usual I like this way to express yourself in words ..

Udan Tashtari 10/04/2008 5:20 PM  

बहुत बढ़िया.बधाई एवं शुभकामनाऐं!!

Dr. RAMJI GIRI 10/05/2008 12:00 PM  

Bahut hi khoossurat shabdon me aapne zindagi ki kashmkash ko ukera hai...

par mujhe laga ki in panktiyon ko hata dene se kavita jyada 'compact'aur prabhavshali ho jayegi..
"अब तक तो मात्र
सबके लिए फ़र्ज़ पूरे किए।
कौन सा लम्हा है हमारा
जिसे हम सिर्फ़ अपना कह सकें
और उस लम्हे को अपनी
धरोहर बना सकें ।
ढूंढे से भी नही मिलता वो एक पल
जो हमने अपने लिए जिया हो
बंदिशों के रहते
किसी पल को भी अपना कहा हो।"

roohshine 10/05/2008 4:54 PM  

priya didi
in panktiyon mein zindagi bus yunhi jeete chale jate hain wala bhav aapne bahut khoobsurati se racha hai..

बंदिशें ज़िन्दगी में

हर पल कुछ यूँ

हावी हो जाती हैं

चाहता है कुछ मन

पर ख्वाहिशें

पूरी नही हो पाती हैं ।

यूँ तो हम सब

ज़िन्दगी जी ही लिया करते हैं

सुख के पल भी ज़िन्दगी में

अनायास ही पा लिया करते हैं ।

हंस लेते हैं महज़ हम

इत्तफाक से कभी कभी

खुश हो लेते हैं यह सोच

कि ज़िन्दगी में कोई कमी तो नही ।

.shayd zindagi mein koi kami to nahin hai ..yahi bhav yunhi jeene deta hai zindagi ..bina apne andar utre .. bina kuchh talash kiye ..apne liye jiya hua pal?? kya sarthak hai tab tak jab tak swayam ko jana na ho.. aur swayam ko janne ke liye bitaya hua pehala pal.. jee liya jata hai apne liye ..aur pehla kadam hota hai un unkahi bandishon ko todne ke liye.. ye badishe anayaas hi hoti hain jaisa aapne likha hai .. unse bahar ana hi jeevan ko sarthak karta hai .bahari wa samajik bandishon se mukt hone se zyada zaroori hai hum apne swayam ko un undkehi bandishon se mukt rakhein..aur aisa karne ke baad wo muskaan gayab nahin hogi.. kyunki tab har pal hum jiyenge khud ke liye ..aur us awastha mein hum apne aas paas ke logon ko bhi khush rakh paayenge kyunki jo swayam ke paas hota hai wahi hum baant paate hain ..doosron ko khush rakhne ke liye kisi tyaag se zyada prem bhav ki awashyakta hoti hai.. ek bandhan rahit bhav ... philosophy phir chalu ho gayi meri.. aapki rachna ke baare mein yahi kehna hai ki aapne in anayas bandishon ko bahut sunderta se chitrit kiya hai aur is rachna mein kavyatmakta bahut hai.. achchi lagi
mudita

Chaitanya 10/06/2008 11:05 AM  

jindgi ka phalsapha in chand panktiyon men kah dena to koi aapse sikhe!!!
dhoondhe se bhi nahin milti koi aap jaisi shakhsiyat,
chand shabdon men bayan kar de jo jindgi ki haqiqat !

taanya 10/06/2008 11:19 AM  

Sangeeta ji...insaan khud ko jitna gam k sagar me utaarta jayega utna hi khud ko dooba hua mehsoos karega..aisi avastha me bas ek chhota sa tinke ka bhi sahara mil jaye to aisa ho jata hai ki vo us gehrayi me jaane se bach bhi jata hai..aur us tinke ke sahare ko bhi insaan ko apne man-manthan se hi nikaalna padta hai..kabhi aap aisi paristhiti me aisa manthan kar us tinke ko talaashne ki koshish ki jiye...aap jaroor safal hongi ye sirf me vyaktigat roop se aap ko hi nahi keh rahi hu..ek succhi aur safal koshish ki baat kar rahi hu...aur is koshish ki aap k sath sath ham jaiso ko bhi jaroorat padti hai..fir dekhiyega...khud ko baad me analyse kr k payengi ki kitni badi niraasha se khud ko bacha payi..aur agar aisa na karti to kitne ghor avsaad ka saamna karti.....

aapki rachnaye hamesha vichar yukt hoti hai jo hame b gehri soch aur zindgi k prati naye naye nazeriye deti hai...

rev.kafi lamba ho gaya..jbki hamesha chaahti hu ki sankshipt likhu bt na jaane kyu..aapki post per u ho jata hai..

shikha varshney 10/24/2008 6:58 PM  

sach di!vakai kahan ek pal bhi hamara apna hota hai....sare pal jimedari nibhane main hi kat jate hain...bahut achcha likha hai aapne.

Post a Comment

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है...

आपकी टिप्पणियां नयी उर्जा प्रदान करती हैं...

आभार ...

हमारी वाणी

www.hamarivani.com

About This Blog

आगंतुक


ip address

  © Blogger template Snowy Winter by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP