copyright. Powered by Blogger.

तृष्णाएँ

>> Saturday, October 18, 2008

ज़िन्दगी एक धोखा है
फिर भी लोग विश्वास करते हैं
कि हम जीते हैं
और न जाने
कब तक जीते रहेंगे
इस जीने की उम्मीद पर ही
तृष्णाएँ जन्म लेती हैं
और हावी हो जाती हैं
मनुष्य की ज़िन्दगी पर ,
उन तृष्णाओं की तृप्ति में ही
मनुष्य लगा देता है सारा जीवन ,
पर क्या सही अर्थों में
उसे तृप्ति मिलती है ?
निरंतर प्रयासों के बाद भी
मानव तृषित रहता है
और फिर -
स्वयं को धोखा देता है
यह विश्वास करके कि
वह प्रसन्न है , संपन्न है
उसमे अपनी इच्छाओं को
पूरा कराने का दम है ,
उसके लिए मात्र
एक ज़िन्दगी कम है।


16 comments:

SATVINDER 10/18/2008 5:51 PM  

VERY WELL EXPRESSD

Chaitanya 10/18/2008 6:55 PM  

jindgi mithya hai, yahi bodh karati hai ye vali rachna.....

संजीव तिवारी 10/18/2008 7:40 PM  

मात्र ऐ दिन्‍दगी के लिए ........


धन्‍यवाद संगीता जी ।


इस ब्‍लाग का पंजीयन हिन्‍दी ब्‍लाग एग्रीगेटरों में करवायें और अपनी कवितायें हिन्‍दी प्रेमियों तक पहुंचायें ।

vinsaint 10/18/2008 8:05 PM  

"स्वयं को धोखा देता है यह विश्वास करके कि
वह प्रसन्न है , संपन्न है उसमे अपनी इच्छाओं को
पूरा कराने का दम है ,उसके लिए मात्रएक ज़िन्दगी कम है।"
aapne shai socha aur kaha, magar manav isi bhram men jine ki rah nikal leta hai. jab sansar maya hai to jeena aek abhinay, bas abhinay ko abhinay samjhna aur jan-na lazimi hai.aisa ho to use khud ko dhokha dene ki jaroorat shayad nahin ho, aaur trishnayen bhi nahin sataye.
rachna darshnik bhav liye hai aur aap ke paripakav lekhan ki parichayak hai. padh kar, soch kar achha laga.

Uloook 10/18/2008 8:15 PM  

ज़िन्दगी एक धोखा है
wo to sab ko pata hai
फिर भी लोग विश्वास करते हैं
vishvas nahin karte hai karna unki majboori hai
कि हम जीते हैं
mar bhi to nahin sakte hain
और न जाने
haan na jaane
कब तक जीते रहेंगे
jab tak vishvas karenge
इस जीने की उम्मीद पर ही
wo to aapka kahna 100% sahi hai

रश्मि प्रभा 10/18/2008 8:59 PM  

पर क्या सही अर्थों में
उसे तृप्ति मिलती है ?.......maine bhi aksar yahi socha hai......

nayeda............ 10/18/2008 10:06 PM  

didi, aap darshan men uttar rahi hai. baat pate ki hai, trishna ko dukhon ka karan gautam budh ne bhi bataya tha. badle samay men trishnaon ka punaravalokan karen to payenge yeh mansik tathya hai jo bhautik roop men abhivyakt hota hai. yadi hum nirlipt hokar jeeyen to shayad trishnayen pareshan na kare magar yah mushkil hi nahin namumkin sa lagta hai.....fir kya karen ?

Dr. Vijay Tiwari "Kislay" 10/18/2008 10:58 PM  

संगीता जी
नमस्कार
"तृष्णाएँ" के माध्यम से आपने जिंदगी की हक़ीकत को उजागर करने की कोशिश की है
आपको सफलता भी मिली है,बधाई.

जिंदगी धोखा ही सही
पर जीना ही पड़ता है
आखरी श्वांस तक
तृप्ति मिले या ना मिले
हाथ पैर चलते हैं
मन को बहलाते हैं
लगे रहते हैं-
खुद को धोखा देने में
इंतज़ार करते हैं
मौका मिलने का
मौका यह नहीं कि
परोपकार का
दुख-सुख बाँटने का
स्नेह का
समर्पण का
जी हाँ मौका वह
जिसमें स्वार्थ हो
सात पीढ़ियाँ कृतार्थ हों

क्या ये संभव है
कदाचित् नहीं
आज फिर भी हम
खड़ी साइकिल के
पहिए की तरह
घूमते रहते हैं
जो मंज़िल तक
कभी नहीं पहुँचता

आपका
विजय तिवारी किसलय

sangeeta 10/19/2008 7:56 PM  

satvinder, chaitanya, sanjeev ,vinsaint, ulook ji, rashmi ji, nayeda ji aur vijay ji, sarvpratham aap sabko mera hriday se dhanywad. aap sab ki tippniyan mujhe kuchh naya likhane ke liye prerit karati hain .ek baar phir
shukriya.

sangeeta 10/19/2008 7:58 PM  

ulook ji,
ज़िन्दगी एक धोखा है
wo to sab ko pata hai
फिर भी लोग विश्वास करते हैं
vishvas nahin karte hai karna unki majboori hai
कि हम जीते हैं
mar bhi to nahin sakte hain
और न जाने
haan na jaane
कब तक जीते रहेंगे
jab tak vishvas karenge
इस जीने की उम्मीद पर ही
wo to aapka kahna 100% sahi hai

aapne bahut gahraayi se rachna ko padha, shukriya.aapko इस जीने की उम्मीद पर ही
ye shabd 100% sahi lage isake liye ek baar phir shukriya.

sangeeta 10/19/2008 8:00 PM  

nayeda ji,
yahi to sochna hai ki fir kya karen????shaayad itna hi ki kam se kam ahankaar to na karen..
saabhaar

sangeeta 10/19/2008 8:02 PM  

vijay ji,
aapki pratikriya bahut khoobsurat rachna ke roop men mili. shukriya.

मौका यह नहीं कि
परोपकार का
दुख-सुख बाँटने का
स्नेह का
समर्पण का
जी हाँ मौका वह
जिसमें स्वार्थ हो
सात पीढ़ियाँ कृतार्थ हों

bahut sahi vichar hai.
shukriya

taanya 10/20/2008 9:32 AM  

Sangeeta ji bahut nirasha bhari lagi aapki ye rachna...

jab insaan k paas umeed nahi hogi..vishwas nahi hoga..prasann rehne ki, sampann rehne ki aur apni icchhaao ko pura karne ke dam ka bhram nahi hoga to vo jiyega kaise??? kaise katega vo is lambi neeras zindgi ko...?????

mana ek dhoke me jeeta hai insaan lekin isi dhoke ke tehet kaafi kuch vo is jeevan me, is samaaj se hasil bhi karta hai aur khushi bhi mehsoos karta hai..aur aaj k bhautik yug me yahi safalta bhi hai uski zindgi ki..

kehte hai na hamesha insaan me kuchh paane ki laalsa rehni chaahiye..varna vo lalsa nahi to vo koshish nahi karega..kosishish nahi karega to unnatti nahi karega..vo khud nahi badhega to samaaj, desh kaise badhega...to kul mila kar insaan ko apnii trishnaaye jaagrit rakhni chaahiye...indirect way me isi me ham sab ki progress chhipi hui hai...

kuchh galat laga ho to kShama Praarthi hu...

apni niraashaaso se uper uthiye...pls.

sangeeta 10/20/2008 11:30 AM  

taanya,
aapne bahut gahraayi se rachna padhane ka prayaas kiya. isake liye shukriya.
prayaas is liye likha hai kyon ki rachna ka marm ye nahi hai jisaki vyaakhya aap kar rahi hain.
ismen baas itani si baat hai ki insaan jaanta hai ki wo amar nahi hai phir bhi zindagi men matr swaarthi ban jeeta hai ,kewal apani trshnaon ko badhawa deta hai.is tarah se sansaarik moh men pada rahta hai ki jaise ye sab kabhi usase chhutenge nahi..........
padhane ka shukriya

संवेदनाऍं 10/23/2008 4:19 PM  

संगीता जी,
बहुत सुन्‍दर लि‍खा है, बधाई।

सुनील आर.करमेले, इन्‍दौर.

Rani Mishra 11/06/2008 11:24 AM  

ज़िन्दगी एक धोखा ही तो है......
फ़र्क सिर्फ इतना है की यहाँ इंसान खुद ही को धोखा दे रहा है,
हमने ज़िन्दगी को मात्र पाने का ही नाम दिया है,
हर वक़्त कुछ न कुछ पाने की चाह है हमें.....
और हो भी क्यूँ न, हम जीवित जो है.......
परन्तु आज हमारी ज़िन्दगी हमारी उन्ही चाहतो की गुलाम बन चुकी है,
हम ज़िन्दगी का असली मकसद भूल चुके है.....
प्रभु के दिए जीवन को हम यु ही व्यर्थ गवां रहे है.....
क्यूंकि ये इच्छाएं हमारी अपनी नहीं है, ये तो मात्र
जीवन को जीने की कुछ आवशयाक्ताये है, ये ज़िन्दगी का मकसद नहीं है...

Post a Comment

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है...

आपकी टिप्पणियां नयी उर्जा प्रदान करती हैं...

आभार ...

हमारी वाणी

www.hamarivani.com

About This Blog

आगंतुक


ip address

  © Blogger template Snowy Winter by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP