copyright. Powered by Blogger.

मजबूरी

>> Monday, October 20, 2008

ज़िन्दगी के हर दौर में हम



ज़िन्दगी का अर्थ ढूढते रहे



औ ज़िन्दगी का सफर



यूँ ही पूरा हो गया ।



जो मिला इस सफर में



वो भी तो कुछ कम न था



कुछ गम थे , कुछ शक



कुछ तल्खियाँ औ तन्हाईयाँ

और जो प्यार मिला तो

वो भी अधूरा रह गया ।

ख्वाब में गर मैंने

मंजिल पाने की चाहत की

इस चाहत के दरमियाँ ही

ख्वाब खंडित हो गया ।

और अब न ख्वाब है

न चाहतें , न ही मंजिल

न अधूरा प्यार ही

शायद इसी लिए अब

यह ज़िन्दगी जीना आसान हो गया ।

गर इसी को जीना कहते हैं

तो हम भी जी रहे हैं

पल- पल मर - मर कर हम

यूँ ही साँस ले रहे हैं

और हर साँस के साथ

विष का धुंआ उगल रहे हैं

क्यों की -

ज़हर उतारने के लिए

ज़हर का होना ज़रूरी है

ऐसे ही -

ख़ुद को विषाक्त बना लेना

मेरी मजबूरी है.

3 comments:

taanya 10/22/2008 4:49 PM  

Sangeeta ji aapki rachnaao me aaj kal nirasha bahut jhalakti hai..

Adhuri si zindgi ki adhuri si chaahte liye..
U hi zindgi ek din tamaam ho jayegi..
kuchh tum apne armaan jala dalo..
kuchh vo khuda keher barsaayega..
u hi zeher pite pite is zindgi ko jala dalo..

zindgi k ye lambe safar ham sb ko tod dalenge.
na manzile milengi kabhi..ham khud ko kho jaayenge..
tab ek din maut aa jayegi kahin kisi mod per..
tab us khuda se puchhenge ki ham kyu mazburiya leker paida hua...??

RAMA 10/31/2008 6:45 PM  

hum bhi shaayad yehi kahenge k dard bhari kavita likhna maana k bayaan kare tho gum thoda halka ho jaata hai....lekin isi me ghul k reh jaana shaayad Zindagi ko Hataash kar deta hai....
===========================
Chaahe ho Adhuri ya ho fir Puri, zindagi ko is tarah se jiyo k tum zindagi ko zondagi tumhe dekh kar ji rahi hai..........
============================

Hum ye nahi kehte ki aapne achcha nahi likha!!!!!!!! Aapne bahut khub he likha......
========================
Kaash ye zindagi kisi pehne huay kapde ki tarah hoti...
Hum un pehne huay maile kapde ko Nikaal kar swatch kapde pehen lete aur in maile kapdo ko dho kar fresh kar lete hain. aur zindagi me har gum ko muskuraahat me saza dete......
=============

Rani Mishra 11/06/2008 11:30 AM  

सच ज़िन्दगी कभी एक मजबूरी सी जान पड़ती है,
पर कहते है न की घने बादलों के बाद
सूरज की रौशनी में एक नयी सी चमक होती है,
जो जीवन के सभी अंधेरो को दूर कर देती है....
अब तो बस इंतजार है उसी सूरज का.....
उसी रौशनी का......

Post a Comment

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है...

आपकी टिप्पणियां नयी उर्जा प्रदान करती हैं...

आभार ...

हमारी वाणी

www.hamarivani.com

About This Blog

आगंतुक


ip address

  © Blogger template Snowy Winter by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP