copyright. Powered by Blogger.

दल - दल कुंठाओं का

>> Sunday, June 21, 2009



उम्मीद -,

जन्म देती है

कुंठाओं को

और कुंठाएं

बिखेर देती है

रिश्तों को ।

जब तक

समझ आता है

ये बिखराव

हो जाती है देर

और फिर नयी कुंठा

जन्म ले लेती है।

यूँ ही

कुंठाओं के

दल - दल में

घिर जाता है इंसान ।

और जो रिश्ते

सांस लेते थे

उसके अन्दर

धंस जाते हैं

दल - दल में॥

2 comments:

निर्झर'नीर 6/23/2009 12:56 PM  

kitni gahri or sacchi baat kahti ho aap..........man bechain ho jata hai dard ka baNdh tootne lagta hai.

Anamika 7/15/2009 11:30 PM  

Sangeeta ji
kitni bareeki se aapne kunthao se bikherte rishto ka chitran kiya hai kaabile tareef hai.such me aisa hi hota hai..au mere khayal se iska ek hi upaye hai ki jb jab kunthaye janam le unko aapas ki vaartalaap se khatam karne me hi bhalayi hai..(sorry mujhe sugession dene ka adhikar nahi)
is acchhi rachna k liye badhayi.

Post a Comment

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है...

आपकी टिप्पणियां नयी उर्जा प्रदान करती हैं...

आभार ...

हमारी वाणी

www.hamarivani.com

About This Blog

आगंतुक


ip address

  © Blogger template Snowy Winter by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP