copyright. Powered by Blogger.

आज की ताज़ा खबर

>> Friday, April 2, 2010


चिलचिलाती धूप में



चीथड़े पहने हुए


चौराहे पर खड़ा


चौदह बरस का बालक


चिल्ला रहा था --


" आज की ताज़ा खबर


आज की ताज़ा खबर -


चौदह साल तक के


बच्चों को


शिक्षा का अधिकार


इसके लिए प्रतिबद्ध है


हमारी सरकार "


लाल बत्ती होते ही


हर कार की खिड़की से


झाँक कर कह उठता -


बाबू जी -


अखबार ले लो ना ...



लोग


हिकारत की नज़र से


देख


आगे बढ़ा देते थे


अपनी कार


और बालक


रह जाता था


कहता हुआ


बाबू -


ले लो ना अखबार


आज की ताज़ा खबर


शिक्षा का सबको अधिकार



http://charchamanch.blogspot.com/2010/04/blog-post_03.html

24 comments:

rashmi ravija 4/02/2010 7:14 PM  

क्या गज़ब की कविता लिखी है...रोंगटे खड़े हो गए...ऐसा विरोधाभास...ओह्ह समाज की विसंगतियों पर क्रूर प्रहार है यह कविता

M VERMA 4/02/2010 7:15 PM  

ले लो ना अखबार
आज की ताज़ा खबर
शिक्षा का सबको अधिकार
बेध दिया मर्म को आपकी इस कविता ने

मनोज कुमार 4/02/2010 7:16 PM  

अशक्त, असहाय लोगों पर लिखी यह कविता काफी मर्मस्पर्शी बन पड़ी है।

Jandunia 4/02/2010 7:19 PM  

बहुत सुंदर रचना।

M VERMA 4/02/2010 7:19 PM  
This comment has been removed by the author.
रश्मि प्रभा... 4/02/2010 7:55 PM  

kya kuch nahin kah diya is ek pariprekshya se.......waah sangeeta ji

kalpana som,  4/02/2010 8:15 PM  

Adaraniya Bhabiji,
Der ke nate khasma chahati hhon sath sath ye bhi kahati hoon ki parne aur anudhaban karne waqt ki jarurat hai. Sagar ki kinare chamatkar hai.

Aj ki taja khabar swabhabikata ko apka lekhani ne asim rup dia hai.Dainandin samanya bisay ko asadharan uchhata par laye hai.Tasbiron ka upayog bhi jatharth aur bhabnaon ko sparsh kiya.
Apki snehadhanya
Kalpana Som 09432750890 KOLKATA.

kshama 4/02/2010 9:21 PM  

Yah kaisi vidambana hai...shayad yah din bhi guzar jayenge!

Apanatva 4/02/2010 9:30 PM  

aaj ka such hai ye..........

ha jagah ye drushy dekhane ko milta hai.........

aise ma baap bhee hai jo school bhejne se bheekh mangwana jyada sahee samjhate hai.......

jagrookata aa rahee hai par houle houle............

rachana vishay accha laga kavita ke sath.........

अनामिका की सदाये...... 4/02/2010 10:08 PM  

विषय मार्मिक है और शब्दों का चयन उसे और भी निखार रहा है. ..सच में हम राह चलते ऐसे रोज-मर्रा की घटनानाओ को कैसे नज़र-अंदाज़ कर जाते है..और आपने जिस भावुकता से इसे उकेरा है आपकी संवेदनशीलता को भी बताता है.

आभार

Udan Tashtari 4/02/2010 11:43 PM  

बहुत गजब!! वाह!

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक 4/03/2010 12:25 PM  

भारत के जीते जागते भविष्य का आपने बहुत ही मार्मिक चित्र प्रस्तुत किया है!

वन्दना 4/03/2010 9:06 PM  

ek katu satya ko ujagar karti rachna hriday ko jhanjhod jati hai.

BrijmohanShrivastava 4/04/2010 1:03 PM  

बहुत ही अच्छी व्यंग्य रचना |शिक्षा के अधिकार के समाचार वाला समाचार पत्र बेच रहा है एक अपढ़ बालक

दिगम्बर नासवा 4/04/2010 3:15 PM  

ग़ज़ब का व्यंग है ... ये सरकारी घोषणाएँ नेताओं के पैसा खाने का माध्यम हैं ...
असली समस्या कोई देख नही पाता .. सामाजिक बदलाव अब पुरानी बाते हो गयी हैं ... अब सब कुछ राजनीति निर्धारित करती है ...

kavisurendradube 4/04/2010 8:04 PM  

कदम उठाया है तो बढेगा भी
आज जो अखबार बेच रहा है
वह कल इसे पढ़ेगा भी
बड़ा होकर कार में जाएगा
तब उसे सड़क पर अखबार बेचता
कोई बच्चा नजर नहीं आएगा

JHAROKHA 4/05/2010 8:46 AM  

kya karara vyang likha hai aapne.par kavita ki akhiri lain padh kar dil ko chot si lagi.

Anil Pusadkar 4/05/2010 3:19 PM  

vyabsthaa par isase karari chot ho hi nahi sakti

Dr.R.Ramkumar 4/05/2010 5:44 PM  

वाह !!
बहुत चुटीली विचार प्रधान रचना है । बधाई । सबसे खास बात कविता के अनुकूल चित्रों का सही स्थान पर लगाना ।

और कवि सुरेन्द्र दुबे जी की यह टिप्पणी आपकी रचना को सबसे बेहतरीन तोहफा है -
'कदम उठाया है तो बढेगा भी
आज जो अखबार बेच रहा है
वह कल इसे पढ़ेगा भी
बड़ा होकर कार में जाएगा
तब उसे सड़क पर अखबार बेचता
कोई बच्चा नजर नहीं आएगा'

सुरेन्द्र जी क्या बात है !!!

Avinash Chandra 4/05/2010 8:35 PM  

Sach me....marmahat karne wae shabd

निर्झर'नीर 4/06/2010 5:05 PM  

sundar hamesha ki tarah ..aapka chintan gahra hai

Dr. shyam gupta 4/07/2010 5:37 PM  

रचना तो अच्छी ही है----कवि! कुछ एसी तान सुनाओ जिससे कुछ समाधान भी निकले?

स्वप्निल कुमार 'आतिश' 4/09/2010 8:47 PM  

बाबू -


ले लो ना अखबार


आज की ताज़ा खबर


शिक्षा का सबको अधिकार ...aakhir me nazm zabardast tareeke se jhakjhorti hai mumma... :)

Post a Comment

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है...

आपकी टिप्पणियां नयी उर्जा प्रदान करती हैं...

आभार ...

हमारी वाणी

www.hamarivani.com

About This Blog

आगंतुक


ip address

  © Blogger template Snowy Winter by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP