copyright. Powered by Blogger.

नर - नारी संवाद ..

>> Saturday, February 6, 2010


नर ---


हे प्रिय ,


मैं तुम्हें बहुत प्यार करता हूँ


तुम्हारे लिए कुछ भी कर सकता हूँ


तुम कहो तो चाँद तारों से


तुम्हारी झोली भी भर सकता हूँ ।


बस तुम मेरी ये प्यास बुझाओ


मेरे दग्ध होठों को


शीतल कर जाओ


मैं तुममे समां जाऊं


तुम मुझमें सिमट जाओ।




नारी -----------


दावा करते हो कि


तुम मुझे प्यार करते हो


लेकिन क्या कभी


मेरा मन  भी  पढते हो ?


मेरी ज़रूरत को आज तक


समझ नही पाये


और चाँद तारों की बात करते हो ।


तुमने सदैव अपना स्वार्थ साधा है


जब भी मुझे अपनी बाँहों में बांधा है


तुम कहते हो कि मुझमें समाते हो


पर क्या कभी मेरा मन भी छू पाते हो ?


तुमने  हमेशा बस अपनी खुशी चाही


तुम्हें मालूम नही कि


मुझ पर क्या गुज़री है


गर चाहते हो सच ही मुझे पाना


तो तन से पहले मन का पाना ज़रूरी है ।


जिस दिन तुम मेरा मन पा जाओगे


सारे एहसास अपने आप सिमट आयेंगे


न तुमको कुछ कहने की ज़रूरत होगी


और न ही मुझे कोई शब्द मिल पायेंगे।


फिर न तुम्हारे सुर में प्रार्थना का पुट होगा


और न ही मेरा मन यूँ आहत होगा


समर्पण ही मेरा पर्याय होगा


मौन ही मेरा स्वीकार्य होगा ....

20 comments:

अनामिका की सदाये...... 2/06/2010 11:09 PM  

sangeeta ji apki is rachna ko padh kar wah wah kehne ko dil keh raha hai coz..jo prayaas aapne kar dikhaya vo kaabile tareef hai..aapki kalam aur apki soch ki daad deni padegi..ham log b bahut kuch aisa sochte hai..lekin shabdo ki shortage se maar kha jate hai..

hm ab aate hai apki rachna per..
ji ha.n ye purush aisa hi hai ek bat yaad aati hi ki jo priye chaand tare tod laane ki baat karta hai use ek bar keh do jara aaj bazar se sabzi la do to uski jaan nikal jayegi..(ha.ha.ha.) (Baat karte hai....) such kehti hai man ki bat to samajh nahi pati ..chand taro ki baate karte hai..aur ye jo bhaav istri ke aapne shabdo me baandhe..mano pure samaaj ki istriyo ki baat keh dali ..mere kehne ko kuch baki nahi hai..aur i think ye shayed universal truth ki tareh sahi baat hai ki...tum mera man pa jaoge .......to na tumare sur me praarthna ka put hoga...mera maun hi sweekarye hoga...HATS OFF SANGEETA JI IN VICHARO PER...bas itna hi man se nikalta hai..

महफूज़ अली 2/06/2010 11:16 PM  

सच कहा आपने नारी का मन पढना बहुत ज़रूरी होता है....... भावनाओं को समझना बहुत ज़रूरी है..... भावनाओं की समझ ही कम्प्लीट कराती है.... रिश्तों को.......... बहुत अच्छी लगी आपकी यह रचना....

आभार.........

Udan Tashtari 2/07/2010 7:15 AM  

संवाद के माध्यम से बहुत गहरी बात कही है, बेहद उम्दा रचना.

Apanatva 2/07/2010 8:08 AM  

Bahut sunder bhavobhivykti........
bahut acchee lagee ye rachana........

Razi Shahab 2/07/2010 12:16 PM  

sundar bahut sundar rachna......

दिगम्बर नासवा 2/07/2010 12:25 PM  

बहुत गहरी बातें कह दी आपने इस रचना के ज़रिए ........... मन से समझना ही आसान नही होता ...... धड़कन की आवाज़ धड़कन से ही सुनी जाती है .....

shikha varshney 2/07/2010 3:39 PM  

bahut vistaar main likhna hoga :) aati hoon fursat se :)...

वन्दना 2/07/2010 7:19 PM  

man ka safar gar
tay kar iya hota
tu , tu na hota
main ban gaya hota

behad khoobsoorti se bhavon ko sameta hai...........badhayi.

Shefali Pande 2/07/2010 7:36 PM  

bahut sashakt rachna....naree ke man ko kholtee huee...

Manoj Bharti 2/07/2010 10:01 PM  

उम्दा रचना ...नारी की भावनाओं को व्यक्त करती ।

शोभना चौरे 2/07/2010 11:18 PM  

लेकिन क्या कभी


मेरा मन भी पढते हो ?

sara dard hai is yksh prshn me .nari ka man koi bhi smjh paya hai kya ?
antrman ko chooti hui anupam rachna .

shikha varshney 2/08/2010 4:14 PM  

दी आपकी ये कविता मेरी पसंदीदा कविता है...कितनी सरलता से सबके मन की बात कह दी आपने...बहुत सुन्दर

GAURAV VASHISHT 2/08/2010 4:37 PM  

wao di, prashn and uska pratiuttar
bhaut hi lajawab hain,
i thoroughly enjoy ur poem

rashmi ravija 2/08/2010 8:06 PM  

वाह...इतनी सुन्दरता से जता दिया..नारियों के मन की व्यथा...सुन्दर अभिव्यक्ति

हिमांशु । Himanshu 2/08/2010 10:25 PM  

संवाद के माध्यम से खूबसूरत अभिव्यक्ति ।
मन से मन का मिलना ही तो सच्चे मिलन का मतलब है । आभार प्रस्तुति के लिये ।

विचारों का दर्पण 2/09/2010 8:41 AM  

बहुत ...बढ़िया प्रस्तुति ......नारी के भावनाओ को इस रचना के द्वारा आपने व्यक्त किया

Deepak Shukla 2/14/2010 9:04 AM  

Hi..
Anya kavitaon se hota hua Nar-Nari sanwad par atak gaya hun.. Sach to ye hai jahan shashwat prem hota hai vahan, prarthna, adhikar, kshobh, glani, akulahat, nivedan ka sthan, anurag aur pyaar swatah le leta hai, vahan nivedan ya prarthna nahi hote varan samarpan hota hai..
Kavita ka ras antim do chhandon main hai..
Behtareen..
Dhanyavad..
DEEPAK..

AJEET 2/22/2010 9:18 PM  

Sangeeta ji ...


Awesome ...Whatever you have written is absolutely true ..its for every human being on this earth ...man or woman ..dialogue stand true ...To actually make a relationship work ..we need to understand the needs of partner which she/ he has never demanded ..what makes her / him happy rather than showering luxerious gifts ...

It just beautiful ..

Thanks for Sharing such a work to all your friends ..

Ajeet

मनोज कुमार 8/23/2010 1:04 PM  

कविता कड़वे सच को बयान करती है।

Post a Comment

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है...

आपकी टिप्पणियां नयी उर्जा प्रदान करती हैं...

आभार ...

हमारी वाणी

www.hamarivani.com

About This Blog

आगंतुक


ip address

  © Blogger template Snowy Winter by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP