copyright. Powered by Blogger.

धुआं बनाम ज़िन्दगी

>> Monday, September 8, 2008

ज़िन्दगी ,
धुआं बनती जा रही है
कब तक तुम उसे
मुट्ठी में बांधने का प्रयास करोगे ?

बंधी मुट्ठी में तुम्हे लगेगा
कि शायद ज़िन्दगी बाकी है
जब भी खोलोगे मुट्ठी तो
मात्र एक जलन का एहसास लिए
खाली हाथ देखते रह जाओगे।

1 comments:

Taanya 9/09/2008 12:01 PM  

ज़िन्दगी ,
धुआं बनती जा रही है
कब तक तुम उसे
मुट्ठी में बांधने का प्रयास करोगे ?
- hmmmm sangeeta ji ye moh-maya me fasa insaan u hi mutthi me zindgi ko baandne ka prayaas karta hai...lekin zingdi to apni tareh se hi chalgi..na..
बंधी मुट्ठी में तुम्हे लगेगा
कि शायद ज़िन्दगी बाकी है
जब भी खोलोगे मुट्ठी तो
मात्र एक जलन का एहसास लिए
खाली हाथ देखते रह जाओगे।
- hmmm insaan hamesha umeed rakhta hai aur isi soch k tehet ye sochta hai ki jaise use to maut aayegi hi nahi..aur is maut ko bhulaaye rakhta hai..so yahi lagta hai use ki zindgi baaki hai..lekin is kadve such per kon vijay pa chuka hai jo insaan payega..per ek baat sahi bhi hai..ki jb tak insan maut ko bhool kar agar khush reh pa raha hai to us me burayi kya hai..baki maut ne kb kisko khushi di jo us insan ko degi..jo sochta hai..ZINDGI ABHI BAKI HAI..maut me jalan hai to vo to milegi hi..

Post a Comment

आपकी टिप्पणियों का हार्दिक स्वागत है...

आपकी टिप्पणियां नयी उर्जा प्रदान करती हैं...

आभार ...

हमारी वाणी

www.hamarivani.com

About This Blog

आगंतुक


ip address

  © Blogger template Snowy Winter by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP